Story Detail

01 Sep 2015

पंजाबी समुदाय में सबसे लोकप्रिय जूते

Vox Orbis / 01 Sep 2015 Footwear

चित्र: परम्परिक जुत्ती जो रंगों एवं महीन एम्ब्रॉयडरी से सुसज्जित होती है Richa Yadav/Flickr

हरमीत संधु 

पंजाबी जुत्ती विशेष रूप से पंजाबी समुदाय और उत्तर भारतीय क्षेत्रों एवं  आसपास के इलाकों में  प्रसिद्ध जूता है। यह पारंपरिक जूते  मेरे शहर मलोट का  एक ट्रेडमार्क हैं  जहां से विशेष रूप से इसे पंजाबी प्रवासी भारतीयों के लिए दुनिया भर में निर्यात

शाही परिवारों एवं अमीर पंजाबियों में परंपरागत रूप से  इन जूतों का विशेष जनून है । वह  सुनहरे धागे और रंगीन मोती से बनी जुत्ती के विभिन्न प्रकार  पहनने के लिए एवं तोहफे के लिए इस्तेमाल करते हैं  । ऐसे प्रकार  आज भी लोकप्रिय हैंऔर आधुनिक जूते उद्योग को कठिन मुकाबला दे रहें  हैं

हस्तशिल्प जुत्ती ग्रामीण लोगों के बीच बहुत प्रसिद्ध है और यहां तक कि धीरे-धीरे असली सोने और चांदी के धागे  की कढ़ाई अपनी आकर्षक अपील से  फैशन का प्रतीक बनती जा रही  है।

 कोई भी पंजाबी शादी समारोह अधूरा समझा जाता जब  तक कि किसी शादी समारोह में पंजाबी जुत्ती को पहना नहीं जाता , यह लोक संस्कृति का एक अभिन्न अंग बन गया है यही कारण है कि मेरे शहर मलोट का यह अन्नोठा जूता   विदेश में एवं पंजाब के हर नुक्कड़ और कोने तक पहुँच जाता है

मलोट घर आधारित दुकानों की एक बड़ी संख्या होने का दावा करता है। लोग विशेष रूप से विशेष अवसरों या त्योहारों पर एक प्यार की निशानी के रूप में अपने बच्चों या रिश्तेदारों के लिए जुत्ती  की खरीद के लिए मेरे शहर में आते हैं ।

समाज के गरीब वर्ग से ताल्लुक रखने वाला समुदाय जूते  बनाने के काम में लगा हुआ है । प्रतिभा एक पीढ़ी से दूसरे से गुजरता है। यह एक त्रासदी ही कही जाएगी की आज की यवा पीड़ी इस धंदे को अपना नहीं पा रही है, जाहिर तौर पे ये काफी मेहनत वाला काम है एवं कढ़ाई का काम काफी जियादा समय और मेहनत की मांग करता है। 

इस की एक वजह ये भी है की मेहनत का मूल्य किये गए काम के अनुसार नहीं मिलता जो युवाओं को इस पेशे से दूर ले कर जा रहा है।

चित्र: पंजाब, भारत में हाथ से बने जूते जो परम्परिक भारतीय सूटों के साथ डाले जाते हैं, विशेष रूप से शादिओं या किसी अवसर पर जश्नप्रीत


हरमीत संधु Vox Orbis, 2015